धन्य धन्य हम रहे….

सत्यवीर सिंह जी ज्ञान(म) जी अजॆय जी

नित्य सूर्य कॆ समान मार्ग तॊ दिखा रहॆ।

आप की ज़ुबान से बह रही सुवाणी की

माप तो न कर सके,  धन्य धन्य हम रहे।

राज्य-राज्य भिन्न हो ध्यॆय एक ही रहॆ

आज हिंदी का सही रूप सीख लेंगे हम।

15-10-2007

(कॆंद्रीय हिंदी संस्थान, मैसूर केंद्र के द्वारा आयोजित शिक्षक नवीकरण कार्यक्रम के संदर्भ में…)

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: